Home > RSS > Swayamsevak
Swayamsewak's Life

Swayamsewak’s Wife

संघ कार्यकर्ताओं की धर्मपत्नीयों को समर्पित एक कविता मेरे माता - पिता के मन में सखी, जाने क्या थी बात समाई देखा उन्होंने मेरे लिए जो, एक "स्वयंसेवक" जमाई। क्या कहुँ बहन मुझे न जाने, क्या - क्या सहन करना होता है? "इनके" घर आने - जाने का, कोई निश्चित समय न होता

Read More
Dr. Krishna Gopal RSS

Hindutva and Hinduism by Dr. Krishna Gopal

डॉ. कृष्णगोपाल: राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ - सह सरकार्यवाह ये इज्म शब्द पाश्चात्य जगत से आया है। इज्म का अर्थ है कि कोई व्यक्ति कोई सिद्धांत देता है, कोई विचार देता है, वह एक खांचे में आ जाता है, उसके बाहर जाना तो संभव नहीं होता। इसलिए जो हम हिन्दुत्व बोलते

Read More
Setubandh: Lakshmanrao Inamdar

सेतुबंध

सेतुबंध ! सदियों पहले एक सेतु बना था। रामायण काल में लड़ाई थी, राम-रावण के बीच, देव एवं आसुरी शक्तियों के बीच। वास्तुकार नल-नील की प्रतिभा, वानर सेना की उत्कृष्ट भक्ति और.... गिलहरी...से...सुग्रीवराज, हर किसीकी सामूहिक भक्ति एवं कर्म शक्ति, ज्ञान, भक्ति, कर्म की त्रिवेणी ने निर्माण किया वह सेतुबंध ! आसुरी शक्ति पराजित

Read More
Shri Jagdish Prasad Mahor

नारी है मजबूर बंधु नारी है मजबूर…

श्री जगदीश प्रसाद माहोर जी (स्वमसेवक) द्वारा ह्रदय को छू लेने वाली कुछ पंक्तिया नारी है मजबूर बंधु नारी है मजबूर... नारी है मजबूर बंधु नारी है मजबूर ।। न्याय के नाम पे मिलता धोखा, न्याय है कोसों दूर.. नारी है मजबूर बंधु, नारी है मजबूर ।। कोर्ट में जाते धक्के खाते, कई साल

Read More
Shri Jagdish Prasad Mahor

नारी समाज है बड़ा महान…

नारी समाज है बड़ा महान, कर लो तुम इसकी पहचान। दहेज के लालच में आकर, क्यों लेते हो इसकी जान? नारी से है जग में शान, नारी पुरुषों की पहचान। बच्चे पाले घर को संभाले और देती है सुख आराम। क्या गरीब क्या दौलत वाले, सब हैं तेरी गोद के पाले। तेरे लिये सब एक

Read More