Home > Poetries & Songs > गाँव और शहर

गाँव और शहर

Village VS City

तेरी बुराइयों को हर अख़बार कहता है,
और तू मेरे गाँव को गंवार कहता है।

ऐ शहर मुझे तेरी औक़ात पता है,
तू बच्ची को भी हुस्न ए बहार कहता है।

थक गया है हर शख़्स काम करते करते,
तू इसे अमीरी का बाज़ार कहता है।

गाँव चलो वक्त ही वक्त है सबके पास,
तेरी सारी फ़ुर्सत तेरा इतवार कहता है।

मौन होकर फोन पर रिश्ते निभाए जा रहे हैं,
तू इस मशीनी दौर को परिवार कहता है।

वो मिलने आते थे कलेजा साथ लाते थे,
तू दस्तूर निभाने को रिश्तेदार कहता है।

बड़े-बड़े मसले हल करती थी पंचायतें,
अंधी भ्रस्ट दलीलों को दरबार कहता है।

अब बच्चे भी बड़ों का अदब भूल बैठे हैं,
तू इस नये दौर को संस्कार कहता है।

Shared By: Dev Kumar (WhatsApp User)

sharetoall
Share to all is a platform to share your knowledge and experience.
http://www.sharetoall.in

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *