Wednesday, October 16, 2019
Home > RSS > Hamein Veer Keshav Mile Aap Jab Se

Hamein Veer Keshav Mile Aap Jab Se

Dr Baliram Hedgewar

हमें वीर केशव मिले आप जब से

नई साधना की डगर मिल गई है॥

हमें वीर केशव मिले आप जब से

नई साधना की डगर मिल गई है॥

भटकते रहे ध्येय-पथ के बिना हम

न सोचा कभी देश क्या धर्म क्या है

न जाना कभी पा मनुज-तन जगत में

हमारे लिये श्रेष्ठतम कर्म क्या है

दिया ज्ञान जबसे मगर आपने है

निरंतर प्रगति की डगर मिल गई है ॥१॥

हमें वीर केशव मिले आप जब से

नई साधना की डगर मिल गई है॥


समाया हुआ घोर तम सर्वदिक् था

सुपथ है किधर कुछ नहीं सूझता था

सभी सुप्त थे घोर तम में अकेला

ह्रदय आपका हे तपी जूझता था

जलाकर स्वयं को किया मार्ग जगमग

हमें प्रेरणा की डगर मिल गई है॥२॥

हमें वीर केशव मिले आप जब से

नई साधना की डगर मिल गई है॥


बहुत थे दुःखी हिन्दु निज देश में ही

युगों से सदा घोर अपमान पाया

द्रवित हो गये आप यह दृश्य देखा

नहीं एक पल को कभी चैन पाया

ह्रदय की व्यथा संघ बन फूट निकली

हमें संगठन की डगर मिल गई है॥३॥

हमें वीर केशव मिले आप जब से

नई साधना की डगर मिल गई है॥


करेंगे पुनः हम सुखी मातृ भू को

यही आपने शब्द मुख से कहे थे

पुनः हिन्दु का हो सुयश गान जग में

संजोये यही स्वप्न पथ पर बढ़े थे

जला दीप ज्योतित किया मातृ मन्दिर

हमें अर्चना की डगर मिल गई है ॥४॥

हमें वीर केशव मिले आप जब से

नई साधना की डगर मिल गई है॥

Hamein Veer Keshav Mile Aap Jab Se

Nai Sadhana Ki Dagar Mil Gai Hai

Hamein Veer Keshav Mile Aap Jab Se

Nai Sadhana Ki Dagar Mil Gai Hai

Bhatakte Rahe Dhyey-Path Ke Bina Hum,

Na Socha Kabhi Desh Kya Dharm Kya Hai,

Na Jana Kabhi Pa Manuj-Tan Jagat Mein,

Hamare Liye Sresthatam Karm Kya Hai,

Diya Gyan Jabse Magar Apane Hai

Nirantar Pragati Ki Dagar Mil Gai Hai (1)

Hamein Veer Keshav Mile Aap Jab Se

Nai Sadhana Ki Dagar Mil Gai Hai


Samaya Hua Ghor Tam Sarvadik Tha

Supath Hai Kidhar Kuch Nahi Sujhta Tha

Sabhi Supt The Ghor Tam Mein Akela

Hraday Apaka He Tapi Jujhta Tha

Jalakar Svayam Ko Kiya Marg Jagamag

Hamein Prerana Ki Dagar Mil Gai Hai (2)

Hamein Veer Keshav Mile Aap Jab Se

Nai Sadhana Ki Dagar Mil Gai Hai


Bahut The Dukhi Hindu Nij Desh Mein Hi

Yugon Se Sada Ghor Apmaan Paya

Dravit Ho Gaye Aap Yah Drishy Dekha

Nahin Eka Pal Ko Kabhi Cain Paya

Hradaya Ki Vyatha Sangh Ban Phoot Nikali

Hamein Saṁgathana Ki Dagar Mila Gai Hai (3)

Hamein Veer Keshav Mile Aap Jab Se

Nai Sadhana Ki Dagar Mil Gai Hai


Karenge Punah Hum Sukhi Matra Bhu Ko

Yahi Apane Sabd Mukh Se Kahe The

Punah Hindu Ka Ho Suyasa Gaan Jag Mein

Sanjoy Yahi Svapn Path Par Bade The

Jala Deep Jyotit Kiya Matra Mandir

Hamein Archana Ki Dagar Mil Gai Hai (4)

Hamein Veer Keshav Mile Aap Jab Se

Nai Sadhana Ki Dagar Mil Gai Hai

Avatar
sharetoall
Share to all is a platform to share your knowledge and experience.
http://www.sharetoall.in

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *