Monday, August 19, 2019
Home > RSS > RSS Geet > चरैवेति-चरैवेति, यही तो मंत्र है अपना

चरैवेति-चरैवेति, यही तो मंत्र है अपना

Charaiveti - Charaiveti

चरैवेति-चरैवेति, यही तो मंत्र है अपना,
चरैवेति-चरैवेति, यही तो मंत्र है अपना,
नहीं रुकना, नहीं थकना, सतत चलना – सतत चलना,
यही तो मंत्र है अपना, शुभंकर मंत्र है अपना ॥ध्रु॥

हमारी प्रेरणा भास्कर है, जिनका रथ सतत चलता ।
युगों से कार्यरत है जो, सनातन है प्रबल ऊर्जा ।
गति मेरा धरम है जो, भ्रमण करना – भ्रमण करना ।
यही तो मंत्र है अपना, शुभंकर मंत्र है अपना ॥१॥
चरैवेति-चरैवेति, यही तो मंत्र है अपना ॥

हमारी प्रेरणा माधव है, जिनके मार्ग पर चलना ।
सभी हिन्दू सहोदर हैं, ये जन-जन को सभी कहना ।
स्मरण उनका करेंगे और, समय दे अधिक जीवन का ।
यही तो मंत्र है अपना, शुभंकर मंत्र है अपना ॥२॥
चरैवेति-चरैवेति, यही तो मंत्र है अपना ॥

हमारी प्रेरणा भारत है, भूमि की करें पूजा ।
सुजल-सुफला, सदा स्नेहा, यही तो रूप है उसका ।
जिएं माता के कारण हम, करें जीवन सफल अपना ।
यही तो मंत्र है अपना, शुभंकर मंत्र है अपना ॥३॥

चरैवेति-चरैवेति, यही तो मंत्र है अपना ।
नहीं रुकना, नहीं थकना, सतत चलना सतत चलना ।
यही तो मंत्र है अपना, शुभंकर मंत्र है अपना ॥

!! भारत माता की जय !!

Avatar
sharetoall
Share to all is a platform to share your knowledge and experience.
http://www.sharetoall.in

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *