Wednesday, October 16, 2019
Home > Real Stories > Anti-Cow Slaughter Agitation 1966

Anti-Cow Slaughter Agitation 1966

Swami Karpatri Ji Maharaj

7 November 1966,
The massive Saints Killing by Smt. Indira Gandhi in a day of Gopa-Ashtami 52 years ago in Delhi.

While a report says 375, a participant says 5000 Saints were brutally killed by bullet spray by Delhi police and buried in unknown places.

संयोग समझें या सच?

इंदिरा गांधी को एक संत ने श्राप दिया था और वो सच हुआ था!

1966 के समय में एक संत थे कृपात्री जी महाराज।

इंदिरा गांधी के लिये उस समय चुनाव जीतना बहुत मुश्किल था। कृपात्री जी महाराज के आशीर्वाद से इंदिरा गांधी चुनाव जीती।

इंदिरा गांधी ने उन्हें वचन दिया था कि चुनाव जीतने के बाद गाय के सारे कत्ल खाने बंद हो जायेगें। जो अंग्रेजो के समय से चल रहे हैं।

और जैसा की आप जानते हैं। वादे से मुकरना नेहरु परिवार की खानदानी आदत रही है। चुनाव जितने के बाद कृपात्री जी महाराज ने कहा, मेरा काम करो न…, गाय के सारे कत्ल खाने बंद करो।

इंदिरा गांधी ने धोखा दिया। कोई कत्लखाना बंद नहीं किया गया। (तब रोज कि 15000 गाय कत्ल की जाती थीं। अब 26000 काटी जाती हैं। आज तो मनमोहन सिंह ने गाय का मास बेचने वाले देशों में भारत को पुरी दुनिया में तीसरे नंबर पर ला दिया है।)

खैर तो फिर कृपात्री जी महाराज का धैर्य टूट गया! कृपात्री जी ने एक दिन लाखो भक्तों के साथ संसद का घेराव कर दिया और कहा की गाय के कतलखाने बंद होंगे इसके लिये बिल पास करो।

बिल पास करना तो दूर इंदिरा गांधी ने उन भक्तों के ऊपर गोलियाँ चलवा दी। सैंकड़ो गौ सेवक मारे गए। तब कृपात्री जे ने उन्हे श्राप दे दिया की जिस तरह तुमने गौ सेवकों पर गोलियाँ चलवाई हैं उसी तरह तुम मारी जाओगी और (ये अजीब ही इत्फ़ाक हैं) जिस दिन इंदिरा गांधी ने गोलियाँ चलवाईं थीं उस दिन गोपा अष्टमी थी। (गाय के पूजा का सब्से बड़ा दिन) और जिस दिन इंदिरा गांधी को गोली मरी गई उस दिन भी गोपा अष्टमी थी।

Avatar
sharetoall
Share to all is a platform to share your knowledge and experience.
http://www.sharetoall.in

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *