Monday, August 19, 2019
Home > Charaiveti
Charaiveti - Charaiveti

चरैवेति-चरैवेति, यही तो मंत्र है अपना

चरैवेति-चरैवेति, यही तो मंत्र है अपना, चरैवेति-चरैवेति, यही तो मंत्र है अपना, नहीं रुकना, नहीं थकना, सतत चलना - सतत चलना, यही तो मंत्र है अपना, शुभंकर मंत्र है अपना ॥ध्रु॥ हमारी प्रेरणा भास्कर है, जिनका रथ सतत चलता । युगों से कार्यरत है जो, सनातन है प्रबल ऊर्जा । गति मेरा धरम है जो, भ्रमण

Read More